More
    HomeUncategorizedअराजक तत्व ने तोड़ी भगवान बाबन जी की प्राचीन मूर्ति

    अराजक तत्व ने तोड़ी भगवान बाबन जी की प्राचीन मूर्ति

    अहरौरा बांध के उत्तर तरफ खोतवा गांव में स्थित है भगवान बावन जी का मंदिर

    अहरौरा थाने के ठीक पीछे स्थित है बावन जी महाराज का यह मंदिर

    अहरौरा मिर्जापुर

    अहरौरा नगर के दक्षिण तरफ स्थित अहरौरा बांध के किनारे बसे खोतवा गांव के पास विराजमान बावन जी की प्राचीन प्रतिमा को सोमवार की रात्रि एक व्यक्ति ने क्षतिग्रस्त कर दिया ।
    घटना की जानकारी जब मंगलवार को सुबह लोगों को हुई तो आसपास के लोग सैकड़ों की संख्या में मौके पर पहुंच गए और मूर्ति को क्षतिग्रस्त करने वाले व्यक्ति के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग करने लगे ।
    घटना की जानकारी होने पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और मामले को किसी तरह समझा-बुझाकर शांत कराया ।
    स्थानीय लोगों ने बताया कि लगभग 70 वर्ष पुराने इस मंदिर में स्थापित भगवान बावन जी की मूर्ति का स्थानीय लोग प्रतिदिन दर्शन पूजन करते थे इसके साथ ही प्रत्येक वर्ष बावन द्वादशी को यहां विशाल मेला भी लगता है । मूर्ति तोड़े जाने से लोगों में आक्रोश व्याप्त हैं।
    पुलिस मामले को संज्ञान में लेकर आरोपी की सरगर्मी से तलाश कर रही हैं।

    अहरौरा बांध के पास स्थित बावन जी मंदिर में विराजमान भगवान विष्णु के अवतार वामन देव की मूर्ति बीती रात अराजक तत्व ने तोड़ दिया। इस संबंध में थाना अध्यक्ष अजीत श्रीवास्तव ने बताया कि बेलखरा ग्राम पंचायत में स्थित खोथवा गांव का ही जितेंद्र चौहान पुत्र राजेंद्र चौहान मनबढ़ एवं शराबी प्रवृत्ति का एक युवक मंदिर पर ही बैठकर शराब पी रहा था।
    जिसका पुजारी मनीष साहनी ने विरोध करते हुए वहां नशा करने से मना किया।
    इस बात पर दोनों में रात में झगड़ा होने लगा।
    पुजारी जब चला गया तो मौक़ा देख युवक ने मंदिर में विराजमान भगवान की मूर्ति को ही खंडित कर दिया।

    मंगलवार सुबह जब मंदिर खोला गया तो मूर्ति खंडित पाई गयी। इसके बाद आसपास के लोगों ने सामने स्थित अहरौरा थाने की पुलिस को सूचना दिया ।
    मौके पर पहुंचे थानाध्यक्ष ने विवाद को हल करने का प्रयास किया और आरोपी जितेंद्र चौहान को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया ।
    पुजारी मनीष साहनी ने घटना की जानकारी की पूरी जानकारी पुलिस को दिया ।
    मंदिर में मूर्ति तोड़े जाने से ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त हैं। पुलिस मामले को संज्ञान में लेकर आरोपी की सरगर्मी से तलाश कर रही हैं।
    थानाध्यक्ष ने बताया कि इस संबंध में कोई तहरीर नहीं पड़ी है ।
    मंदिर व्यवस्थापक का कहना है कि हम लोग मूर्ती बनवाकर लगवा लेंगे ।
    थानाध्यक्ष ने बताया कि आरोपी को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।
    अहरौरा बांध के निर्माण के समय हुआ था मंदिर का निर्माण

    बावन जी मंदिर के वर्तमान व्यवस्थापक राजेंद्र पांडेय ने बताया कि जब अहरौरा बांध का निर्माण प्रथम पंचवर्षीय योजना के समय वर्ष उन्नीस सौ 54 – 55 में हो रहा था उस समय यह मंदिर अहरौरा बांध में स्थित था ।
    और बांध के निर्माण के कारण मंदिर को बांध के किनारे बनवाया गया ।
    और मंदिर बनवा करके पुजारी के रूप में मंदिर को बृजराज पांडेय उर्फ बिरजू महाराज को सौंप दिया गया ।
    तब से अब तक बृजराज पांडेय का परिवार मंदिर की देखरेख करता चला आ रहा है ।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments