More
    Homeजनपदअपर पुलिस अधीक्षक ने रिजर्व पुलिस इंस्पेक्टर पर लगाया जातिसूचक शब्दों का...

    अपर पुलिस अधीक्षक ने रिजर्व पुलिस इंस्पेक्टर पर लगाया जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करने का आरोप

    अपर पुलिस अधीक्षक ने जब मांगा गणना रजिस्टर तो आरआई हुये आपे से बाहर

    अपर पुलिस अधीक्षक ने पुलिस महानिदेशक,अपर पुलिस महानिदेशक व पुलिस महानिरीक्षक वाराणसी को आरआई के खिलाफ लिखी चिठ्ठी,लगाई न्याय की गुहार

    तारकेश्वर सिंह
    चंदौली। अपर पुलिस अधीक्षक चंदौली और पुलिस लाइन के रिजर्व पुलिस इंस्पेक्टर के बीच हुआ विवाद काफी चर्चा का विषय बना हुआ है। कहते है कि रिजर्व पुलिस इंसपेक्टर की दबंगई और उनकी कार्यशैली से त्रस्त होकर अपर पुलिस अधीक्षक ने पुलिस महानिदेशक,अपर पुलिस महानिदेशक तथा पुलिस महा निरीक्षक वाराणसी के अलावा पुलिस अधीक्षक चंदौली को पत्र लिखकर रिजर्व पुलिस इंस्पेक्टर द्वारा उनके साथ की गयी अनुशासनहीनता पर कार्रवाही की गुहार लगाई है।

    बताते चलें कि अपर पुलिस अधीक्षक नक्सल द्वारा मंगलवार को गणना परेड में पाई गई गड़बड़ियों पर जब आरआई से गणना में नियुक्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों का नियुक्ति का रजिस्टर मांगा गया तो पुलिस लाइन के आर.आई रविंद्र प्रताप सिंह अपर पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार पर आग बबूला हो गये और उनपर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए लाइन के मामले में दखल नही देने तक की नसीहत द डाली। इस बात का जिक्र अपर पुलिस अधीक्षक नक्सल अनिल कुमार द्वारा अपने पत्रों में लिखकर उच्चाधिकारियों से किया गया है। अपर पुलिस अधीक्षक का कहना था कि आरआई ने उन्हे जाति सूचक शब्द का प्रयोग करने के साथ-साथ उनकी बिरादरी की सरकार होने तक की बात कह दी गयी थी। इस संबंध में पुलिस विभाग के लोगों का कहना है कि गणना में लंबे समय से तैनात सिपाहियों एवं अधिकारियों से लाइन के आरआई और उनसे संबंधित बाबू द्वारा लंबी रकम लेकर उन्हें दो से तीन साल तक गणना में रखकर धन उगाही की जाती रही है। जिसकी भनक लगने पर अपर पुलिस अधीक्षक नक्सल द्वारा जब नियुक्ति रजिस्टर मांगा गया तो लाइन के आरआई रविंद्र प्रताप सिंह आग बबूला हो गए।अब देखना है कि इस विवाद का परिणाम क्या होता है।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments