More
    Homeशहर और राज्यहम विश्व की सबसे प्राचीन संस्कृति हैं -मंडी निदेशक 

    हम विश्व की सबसे प्राचीन संस्कृति हैं -मंडी निदेशक 




    • नए वर्ष में हमारा संकल्प स्वस्थ शरीर एवं सभ्य समाज का निर्माण करना है -अपर निदेशक प्रशासन
    • भाग्योदय फाउंडेशन ने प्रान्त के शासकीय विभागों एवं प्रशिक्षण संस्थानों के जरिये स्वस्थ व समुन्नत उ.प्र. निर्माण की योजना बनायी 
    • भाग्योदय फाउंडेशन व प्रयाग आरोग्यम केंद्र ने किया योग शिविर का आयोजन 

    लखनऊ। उत्तर प्रदेश कृषि उत्पादन मंडी परिषद, किसान मंडी भवन, गोमती नगर के प्रांगण में आज योग विज्ञान शिविर का उद्घाटन मंडी निदेशक श्री अंजनी कुमार सिंह ने दीप प्रज्वलित कर किया। उन्होंने कहा कि हम विश्व की सबसे प्राचीन संस्कृति हैं। उसमें योग विज्ञान का महत्व सर्वाधिक है। भाग्योदय फाउंडेशन और प्रयाग आरोग्यम केंद्र का यह योग शिविर जहाँ मंडी अधिकारियों व कर्मचारियों के शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाने में सहायक होगा, वहीं उनकी कार्यक्षमता में वृद्धि भी करेेगा। श्री सिंह ने योगिक क्रियाओं को जीवन का अंग बनाने का आव्हान सभी से किया।

    भाग्योदय फॉउंडेशन के अध्यक्ष व संस्थापक श्री राम महेश मिश्र के समन्वयन में संपन्न योग विज्ञान एवं व्यक्तित्व परिष्कार प्रशिक्षण शिविर के उद्घाटन सत्र के समापन अवसर पर मंडी परिषद की अपर निदेशक प्रशासन श्रीमती निधि श्रीवास्तव ने कहा कि वर्ष 2022 में मंडी परिषद के प्रमुख संकल्पों में स्वस्थ शरीर व सभ्य समाज की रचना का कार्य भी शामिल है। उन्होंने त्रिदिवसीय योग शिविर के आज के सत्र में सीखे स्वस्थ वृत्त के गुरों को दैनिक जीवन में उतारने का आव्हान मंडी कर्मियों से किया। भाग्योदय फाउंडेशन के अध्यक्ष आचार्य राम महेश मिश्र ने मंडी परिषद की प्रदेश के उत्थान में भूमिका की चर्चा की और बताया कि भाग्योदय परिवार ने प्रयाग आरोग्यम केंद्र के सार्थक सहयोग से उत्तर प्रदेश के सभी विभागों व प्रशिक्षण संस्थानों के जरिए स्वस्थ व समुन्नत उत्तर प्रदेश के निर्माण एवं विकास की योजना बनाई है। उन्होंने सभी के उज्जवल भविष्य की कामना की। 

    प्रयाग आरोग्यम केंद्र के प्रमुख योगाचार्य प्रशान्त शुक्ल ने योग जिज्ञासाओं को योग एवं स्वास्थ्य की वैदिक परिभाषा बताई। उन्होंने शरीर व मन के स्वास्थ्य के अनेक सूत्र योग जिज्ञासाओं को दिए तथा ताड़ासन, तिर्यक ताड़ासन, कटिचक्रासन, हास्य किया व कुंभक क्रिया आदि का विधिवत प्रशिक्षण सभी को दिया। श्री शुक्ल ने नर्वस सिस्टम, खर्राटा समस्या, श्वसन समस्या, नींद की कमी, जोड़ों के दर्द इत्यादि तकलीफों से निजात पाने के योगिक सूत्र प्रतिभागी नर-नारियों को दिए। युवा योगाचार्य सूरज राय एवं लोकेश पाण्डेय की योग क्रियाओं एवं योगासनों को देखकर योग सभागार तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। कार्यक्रम का समापन उपनिदेशक (प्रशासन) श्री दिलीप त्रिगुणायत के धन्यवाद ज्ञापन से हुआ। इस अवसर पर मंडी परिषद के प्रभारी अधिकारी (निर्माण) इं. सत्य प्रकाश, उपनिदेशक अनुरक्षण खंड (मुख्यालय) इं. पंकज गुप्ता, व्यवस्था अधिकारी व जनसंपर्क अधिकारी श्री अवधेश कुमार मिश्र एवं अनुभाग अधिकारी कमलेश वर्मा विशेष रूप से मौजूद रहे।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments