More
    Homeस्वास्थ्यCovid : स्वास्थ्य विभाग का फर्जीवाड़ा, बिना वैक्सीन लगाए ही आ रहा...

    Covid : स्वास्थ्य विभाग का फर्जीवाड़ा, बिना वैक्सीन लगाए ही आ रहा मैसेज




    विमल कृष्ण राय।

    मऊ। स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही कहें या आंकड़ों से खेलकर कागज पर खानापूर्ति करना। जब बिना वैक्सीन लगे ही आम जनता की मोबाइल पर सक्सेस फुल वैक्सीनेशन का मैसेज आ रहा है। बताते चलें रविवार को दिन में करीब 1 बजे जब जनपद मऊ के दोहरीघाट ब्लॉक अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र से एक ब्यक्ति पर मैसेज आया कि आपका दूसरा डोज सफलता पूर्वक लग चुका है, जबकि वह व्यक्ति उस वक्त अपने घर में भोजन कर रहा था और वैक्सीन लगवाने नहीं गया था। जब उन्होंने मैसेज पढा तो माथा चकरा गया। चुंकि यह वाकया आजाद पत्र अखबार के ब्यूरो चीफ विमल कृष्ण राय के साथ हुआ था इसलिए पत्रकार होने के नाते वह इसकी जाँच पडताल में जुट गए, पहले दोहरीघाट CHC प्रभारी डा. फैजान से इस मामले को संज्ञान दिया गया तो उन्होंने बताया कि टेक्निकल दिक्कत आने की वजह से हो गया होगा फिलहाल इस बात की जांच कराकर अवगत करा दिया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए आप विभाग के उच्चाधिकारियों से बात करिए और जब सीएमओ डा. एस एन दूबे से बातचीत की गई तो उन्होंने विभागीय लीपापोती करते हुए कहा कि जिले में 400 लोगों की टीम लगी है। पूरी पारदर्शिता के साथ काम चल रहा है। उन्होंने आगे कहा कि लापरवाही करने वालों के खिलाफ विभागीय कार्यवाही की जाएगी।

    इस मामले की और पड़ताल करने पर पता चला कि यह सिर्फ एक व्यक्ति के साथ ही ऐसा नहीं हुआ। जिले के सभी सीएचसी और पीएचसी क्षेत्र अंतर्गत आने वाले किसी न किसी की मोबाइल पर रोजाना आता है। 9 जनवरी रविवार को ही करीब 10 लोगों की मोबाइल पर ऐसा मैसेज आया है अभी तो इतना सिर्फ पता चला है यह आंकड़ा और भी है और इस तरह के जनपद में कई सीएचसी और पीएचसी का हाल है जो प्रतिदिन सैकड़ों लोगों का फर्जी डाटा इस तरह तैयार किया जा रहा है। सूत्रों की मानें तो हर सीएचसी एवं पीएचसी को 4 हजार जांच करने का टारगेट मिला है ऐसी स्थिति में कर्मचारी कागजों पर शब्दों की बाजीगरी कर रहे हैं। ऐसे में जहाँ एक तरफ कोरोना महामारी को लेकर शासन-प्रशासन अलर्ट जारी कर इससे बचने के लिए तमाम जागरुकता कार्यक्रम कर रहा है एवं भारत भी 150 करोड़ लोगों को वैक्सिनेट होने का दावा कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ इस तरह का फर्जीवाड़ा करके इन दावों की पोल भी खोलने काम भी स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी कर रहे हैं। ऐसे में आमजन की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रहे इन कर्मचारियों का क्या इलाज होगा यह देखना दिलचस्प होगा।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments