More
    Homeउत्तर प्रदेशसीएम योगी का रक्षाबंधन की पूर्व संध्या पर महिला पुलिसकर्मियों को बीट...

    सीएम योगी का रक्षाबंधन की पूर्व संध्या पर महिला पुलिसकर्मियों को बीट पुलिस अधिकारी के पद पर तैनाती का तोहफा

    लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रक्षाबंधन की पूर्व संध्या पर महिला पुलिसकर्मियों को बीट पुलिस अधिकारी के पद पर तैनाती का तोहफा देंगे। रक्षाबंधन से एक दिन पूर्व 21 अगस्त को मिशन शक्ति के तीसरे चरण की शुरुआत कर सरकार महिलाओं व बेटियों को कई तोहफे देने की तैयारी कर रही है। महिला पुलिसकर्मियों के नन्हे-मुन्ने बच्चों के लिए सभी जिलों में बालवाड़ी का तोहफा भी होगा।

    उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित मुख्य समारोह कन्या सुमंगला योजना से वंचित 1.5 लाख बेटियों को और निराश्रित महिला पेंशन योजना की पात्र 1.73 लाख नई लाभार्थी महिलाओं को योजना से जोड़ा जाएगा। करीब 1300 थानों में पिंक टायलेट निर्माण, महिला पुलिसकर्मियों के खाली पदों पर भर्ती जैसे उपहार देने की भी तैयारी है।

    मिशन शक्ति के अब तक के दो चरण में महिला सुरक्षा सुनिश्चित करने व अधिकारों के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिहाज से उपयोगी सिद्ध हुए हैं। सोनभद्र, चंदौली, मीरजापुर, बलिया, गाजीपुर, गोरखपुर, देवरिया, महराजगंज, कुशीनगर, रायबरेली, सुलतानपुर, अमेठी, बरेली, पीलीभीत, लखीमपुर खीरी व रामपुर में भी झांसी की बलिनी मिल्क प्रोड्यूसर कंपनी की तर्ज पर उत्पादक इकाइयों के गठन का निर्देश दिया गया है। दिसंबर तक एक लाख नए स्वयं सहायता समूहों के गठन का भी लक्ष्य रखा गया है।

    मेधावी छात्राओं को मिलेगा नकद पुरस्कार : मिशन शक्ति के तहत 10वीं व 12वीं कक्षा में जिलों में पहले 10 स्थान पर आने वाली मेधावी छात्राओं को पांच-पांच हजार रुपये दिए जाएंगे। साथ ही राज्य बोर्ड से 12वीं कक्षा में जिले में टाप करने वाली और आगे पढ़ाई करने वाली शीर्ष छात्राओं को 20 हजार रुपये देने की तैयारी है। खेल व विशिष्ट कलाओं में शानदार प्रदर्शन करने वाली 10 महिलाओं, 10 बालिकाओं व 10 बालकों को भी नकद पुरस्कार दिया जाएगा। मिशन शक्ति के ही तहत सात अगस्त शनिवार को जिलाधिकारी के साथ हक की बात की जाएगी। 11 अगस्त को कन्या जन्मोत्सव मनाया जाएगा। इसमें सामुदायिक केंद्र, जिला या सरकारी अस्पताल आदि में जन्म लेने वाली कन्याओं व उनकी माताओं को उपहार दिए जाएंगे। उनकी संख्या के बराबर पौधारोपण कर पुरुषों व बालकों को उनका संरक्षण सौंपा जाएगा। कई स्तरों पर स्वावलंबन कैंप लगाए जाएंगे।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments