More
    Homeजनपदसंपत्ति विवाद में मां बाप बने अपने बेटे के खून के प्यासे

    संपत्ति विवाद में मां बाप बने अपने बेटे के खून के प्यासे

    तारकेश्वर सिंह
    चंदौली। मां बाप से 18 वर्ष पहले बिछड़े बेटे के मिलने के पांच छह माह मां बाप अपने जिगर के टुकड़े के जान के दुश्मन क्यो हो गये।यह मामला काफी चर्चा का विषय है। गौरतलब है कि अलीनगर थाना क्षेत्र के नई बस्ती वार्ड नंबर 3 आलू मिल के पास स्थित एक बस्ती का मामला है। जहां जमीन के लालच में अंधे माता पिता और बहनोई ने न सिर्फ अपने बेटे को ही घर से बेदखल कर दिया। यहीं नहीं उसे मार डालने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी। अपने पड़ोसियों की कृपा पर वह युवक जिंदा है। बस्ती वाले चंदा इकट्ठा कर युवक का इलाज करा रहे है। बताते चलें कि युवक का नाम छोटू पासवान है।

    ग्रामीणों के अनुसार दो वर्ष की उम्र में छोटू पासवान अपने माता पिता के साथ वैष्णो देवी दर्शन करने गया था। जहां वह बिछड़ गया। करीब 17-18 वर्ष के बाद किसी ने छोटू के बैष्णो देवी में मिलने की सूचना परिवार को दी। परिवार जम्मू जाकर उसे घर ले कर आए थे।घर वापस आने पर उसका ठोल नगाड़ के साथ छोटू का स्वागत भी किया गया।ग्रामीणों ने बताया कि करीब छह माह तक घर पर बिताने के बाद अचानक परिवार में जमीन के बटवारे को लेकर विवाद हुआ। मां बाप व जीजा सहित पूरा परिवार ही छोटू के खून का प्यासा हो उठा। छोटू के माता पिता और जीजा ने मिल कर उसे पीटना शुरू कर दिया। जीजा ने लोहे के राड से छोटू के सिर पर कई वार भी कर दिया जिससे उसे गम्भीर चोटें आई। छोटू अचेत हो कर गिर गया। पड़ोसियों ने घायल छोटू को अस्पताल में भर्ती कराया। पैसे की दिक्कत आई तो लोगों ने चंदा लगा कर दवा की व्यवस्था की। आलम यह है कि परिवार के लोगो ने उसे देखने तक की जहमत नही उठा रहे है। जब मुहल्ले वालो ने उन्हें समझाने की भी कोशिश की तो बात करने से ही मना कर दिया। इतना ही नही छोटू का इलाज करा रहे लोगों से भी उसके घर वालों ने गाली गलौज किया।बहरहाल, मामला अलीनगर थाना पहुंच गया है। इस सबंध में प्रभारी निरीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बताया कि तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की विवेचना की जा रही है।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments