रंग लाई आजाद पत्र की मुहिमः गिरफ्तार हुआ गालीबाज़ प्रबंधक

0
149

धारा 376 पर सस्पेंस बरकरार, 3 दिन की न्यायिक हिरासत

कुमार अम्बुजेश/ आदित्य दीक्षित

पडरौना, कुशीनगर : जिले में चल रहे गीता इंटरनेशनल स्कूल के गालीबाज प्रबन्धक और महिला शिक्षिका के हाईप्रोफाइल मामले में कुबेरस्थान पुलिस ने शुक्रवार को नाटकीय ढंग से प्रबन्धक ओपी गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने ओपी गुप्ता को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जहां से उसे 3 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

विदित हो कि जिले में बीते कई दिनों से गीता इंटरनेशनल स्कूल के प्रबन्धक ओपी गुप्ता और एक महिला शिक्षिका के बीच मामला चल रहा है, जिसमें पीड़िता महिला शिक्षिका ने प्रबन्धक के खिलाफ कुबेरस्थान थाने में धारा 354, 504 तथा 506 के तहत मुकदमा भी दर्ज कराया था, जिसके बाद मजिस्ट्रेट के सामने बयान के आधार पर मजिस्ट्रेट के निर्देश पर मुकदमे में धारा 376 भी बढ़ायी गयी थी लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस आरोपी प्रबन्धक को गिरफ्तार करने से कतरा रही थी। इस मामले में आरोपी प्रबन्धक की गिरफ्तारी के लिये सीओ सदर सन्दीप वर्मा तथा एएसपी एपी सिंह ने भी निर्देश दे दिया था लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस ओपी गुप्ता की गिरफ्तारी नहीं कर रही थी। थक हारकर पीड़िता ने डीआईजी तथा फिर एडीजी से न्याय की गुहार लगायी, मामला एडीजी अखिल कुमार के संज्ञान में आने के बाद एडीजी जोन ने पीड़िता को न्याय का भरोसा दिलाया तथा कुबेरस्थान पुलिस को आरोपी प्रबन्धक की गिरफ्तारी का आदेश दिया। एडीजी के आदेश के बाद वृहस्पतिवार को कुबेरस्थान पुलिस ने नाटकीय ढंग से आरोपी प्रबन्धक ओपी गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया और उसे न्यायालय में पेश किया जहां से न्यायालय ने उसे 3 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। 

यह था मामला

बीते 16 अगस्त को कसया निवासिनी एक महिला शिक्षिका ने गीता इंटरनेशनल स्कूल के प्रबन्धक ओपी गुप्ता के खिलाफ पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र सौंपते हुए पुलिस अधीक्षक को बताया था कि गीता इंटरनेशनल स्कूल में वह पीआरओ के पद पर तैनात थी, स्कूल का प्रबन्धक ओपी गुप्ता आएदिन उसे गलत नजरों से देखता था और उससे कहता था कि अगर मेरे स्कूल में रहना है तो मेरे साथ हमबिस्तर होना पड़ेगा, एक दिन तो उसने मेरे साथ जबरजस्ती करने की कोशिश की, जिसका विरोध करने पर उसने मुझे अपने स्कूल से निकाल दिया और जब मैंने 12 अगस्त को प्रबन्धक ओपी गुप्ता को फोन कर अपनी बकाया सैलरी 39000 रुपये की मांग की तो उसने मुझे बहुत ही गन्दी-गन्दी गालियां दीं तथा मेरे घर आकर दुष्कर्म करने की धमकी भी दी। महिला शिक्षिका द्वारा दिए गए इस तहरीर के आधार पर पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर कुबेरस्थान पुलिस ने प्रबन्धक के खिलाफ मुकदमा तो दर्ज कर लिया लेकिन मामले के तीन सप्ताह के बाद भी आजतक आरोपी प्रबन्धक को कुबेरस्थान पुलिस गिरफ्तार नहीं कर पायी है। 

एडीजी के आदेश पर मिला न्याय

एडीजी से मिले न्याय के भरोसे के बाद वृहस्पतिवार को आरोपी प्रबन्धक ओपी गुप्ता की गिरफ्तारी तथा उसके जेल भेजे जाने पर पीड़ित शिक्षिका ने न्यायालय तथा उसकी लड़ाई में साथ देने वाले सभी लोगों का धन्यवाद ज्ञापित किया है। क्योंकि गोरखपुर रेंज के एडीजी अखिल कुमार भारतीय पुलिस सेवा के सबसे ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ अधिकारियों में शुमार हैं। उनकी दहलीज पर पहुंची पीड़ित महिला को सबसे ज्यादा उम्मीद उन्हीं से थी, जो एडीजी जोन साहब ने कर के दिखाई है। पीड़िता ने एडीजी जोन श्री अखिल कुमार के अलावा उनके पीआरओ इंस्पेक्टर पंकज सिंह के प्रति भी आभार जताया है जिन्होंने पीड़िता का दर्द एडीजी जोन तक पहुंचाने में मदद की। फिलहाल मामला अदालत में है जिसमें फैसले का इंतजार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here