More
    Homeजनपदबांधो से पानी छोड़े जाने के कारण कर्मनाशा, चंद्रप्रभा व गड़ई नदियां...

    बांधो से पानी छोड़े जाने के कारण कर्मनाशा, चंद्रप्रभा व गड़ई नदियां उफान पर

    लगातार हो रही बरसात से चकिया, बबुरी के दर्जनों गांव हुये जलमग्न, बाढ़ जैसे हालात हुये पैदा

    तारकेश्वर सिंह
    चन्दौली।बीती रात से हो रही तेज बरसात का कहर जनपदवासियों को झेलना पड़ रहा है। विशेषकर चकिया,बबुरी क्षेत्र के दर्जनो गांवो में जलप्लावन की स्थिति बनी हुयी है।उधर बांधो के जलग्रहण क्षेत्रों में लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से मूसांखाड़,लतीफशाह, नौगढ़ व चंन्द्रप्रभा बांध लबालब हो चुके है। इसी के चलते बांधो से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। जिसके चलते इन बांधो से सटे मैदानी क्षेत्रों में बाढ़ सी स्थिति पैदा हो गयी। मूसांखाड़ बांध से लतीफशाह में लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। उधर लतीफशाह बीयर से भी पानी कर्मनाशा में छोड़ा जा रहा है। जिसके चलते कर्मनाशा के जलस्तर मे लगातार बढ़ोत्तरी से कर्मनाशा का पानी शहाबगंज,धरौली क्षेत्र के कई गांवों में बाढ़ आ गयी है। उधर चंन्द्रप्रभा रेगुलेटर से पानी छोड़े जाने के कारण बबुरी क्षेत्र के दर्जनों गांव में बाढ़ की स्थिति पैदा हो गयी है। मुगलसराय चकिया मार्ग पर मवैया छलका व बबुरी चंन्द्रप्रभा पुल के उपर से चंन्द्रप्रभा नदी का पानी बह रहा है।

    वहीं बबुरी क्षेत्र में गड़ई नदी दोबारा बढ़ाव पर है। गड़ई के उफान में बिंदपुरवा,मुस्तफापुर, परमानंदपुर, बजहां, घूरहूपुर,शिवपुर,अकोढ़ा कला,शाहपुर, बहेरा,खुरुहुंजा, बरऊर,चनहटा,सिकंदरपुर,पड़या सहित कई गांवों में धान की सैकड़ों एकड़ फसल डूब गयी है। वहीं पिछली रात से हो रही तेज बारिश के कारण कई गांवों में मुख्य मार्गों पर पानी भर गया है। जिसके चलते कई कच्चे मकान धराशाई हो गए।अचानक आई इस दैवी आपदा से निपटने के लिये हालांकि प्रशासन सक्रिय है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का अधिकारी लगातार जायजा ले रहे हैं।बीती रात हुई मूसलाधार बारिश के कारण आदर्श नगर पंचायत चकिया क्षेत्र का हाल बेहाल हो गया है।पुरानी चकिया में छोटी पहाड़ से चट्टान सरककर नीचे गिर गया।हालांकि किसी को चोट नहीं आई। वहीं पहाड़ का मलबा गलियों में भर गया है।चकिया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का नजारा भी कुछ अलग नहीं है। बारिश के पानी ने चकिया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को तालाब में तब्दील कर दिया है। स्वास्थ्य कर्मियों के घरों में पानी भर गया है।घरों में भरे पानी के कारण लोगों का हाल बेहाल है।मूसलाधार बारिश के कारण जिले में कोई कच्चे मकानों को धराशाई कर दिया है। हालांकि इसमें किसी के घायल होने की सूचना नहीं है।लेकिन इस घटना के बाद अन्य कच्चे घरों में रहने वाले लोगों की चिंताए बढ़ गईं हैं। जिला प्रशासन इन क्षेत्रों का भ्रमण कर लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचा रहा हैं।भारी बारिश के बाद चकिया नगर पंचायत क्षेत्र बाढ़ की चपेट में आ गया है। ऐसे में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा ने घुटनों भर पानी मे उन क्षेत्रों का भ्रमण किया।जहां सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने चकिया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का भी निरीक्षण किया। उन्होंने लोगों को सतर्क रहने का भी निर्देश दिया।बुधवार की शाम ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेमप्रकाश मीणा ने लतीफशाह जलप्रपात फर पहुंच कर जलप्रपात के सुरक्षा का जायजा लिया। इस दौरान सौलनियों को सावधान रहने के निर्देश दिए गये है।जिले में बारिश के अलावा गंगा के रौद्र रूप ने भी लोगों को तबाही का मंजर दिखाने को जैसे बेताब है।उधर गंगा का जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर बह रहा है।हालात यह हैं कि गंगा के तटवर्ती दर्जनों गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं।गांव की गलियों में और खेतों में नाव चल रही है।बाढ़ का पानी क्षेत्र खेतों से होते हुये सड़कों को भी अपने आगोश में ले लिया है। नियामताबाद ब्लाक के मढ़ियां, डांडी, बहादुरपुर जैसे कई गांव के लोग अपने घरों को छोड़ कर सुरक्षित स्थानों पर पर चले गए हैं।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments