More
    Homeजनपदप्रकृति के प्रति लापरवाह लोगों को जगाने के निकाला मौन जूलूस

    प्रकृति के प्रति लापरवाह लोगों को जगाने के निकाला मौन जूलूस

    प्रकृति के बिना जीवन की कल्पना करना बेमानी – चंन्द्रेश्वर जायसवाल

    तारकेश्वर सिंह
    चंदौली।विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस के अवसर पर परिवर्तन सेवा समिति के तत्वावधान में नगर के छात्र-छात्राओं के सहयोग से ओठ पर उंगली रखकर मौन जुलूस निकाला गया। जुलूस कैलाशपुरी से निकलकर क्षेत्र भ्रमण कर पुनः प्रारम्भ स्थल पर आकर समाप्त हुई। समिति प्रकृति के प्रति हो रही लापरवाही पर मौन विरोध कर रही थी।

    मौक़े पर समिति के अध्यक्ष चंद्रेश्वर जायसवाल ने कहा कि प्रकृति का हमारे जीवन में विशेष महत्व है। बिना इनके जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। महामारी काल ने इनकी महत्ता को साबित भी कर दिया है। बताया कि प्रकृति हमारी सबसे बड़ी धरोहर है। हमारी जिम्मेदारी है कि हम इसे संजोकर रखें और ज्यादा से ज्यादा पौधों को लगाकर इस धरा को हरा भरा बनाएं।संयोजक एवं महासचिव प्रभाकर सिंह ने बताया कि समय की मांग है की प्रत्येक व्यक्ति के लिए पौधारोपण अनिवार्य है वैसा अभियान चलाया जाये। लोग पौधारोपण तो कर लेते हैं, लेकिन बाद में देखभाल नहीं करते जिसके कारण पौधा सूख जाता है। इसलिए जरूरी है कि पौधारोपण करने के बाद उसकी नियमित रूप से देखभाल की जाए। इस मौक़े पर उपाध्यक्ष डिंपल सिंह, विशाल यादव, यश जायसवाल, अभिषेक सोनकर, सत्यम सिंह, आर्यन सिंह समेत अन्य लोग उपस्थित थे

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments