More
    Homeजनपदपिछले माह में आई गंगा की बाढ़ से तटवर्ती गांवो की संपूर्ण...

    पिछले माह में आई गंगा की बाढ़ से तटवर्ती गांवो की संपूर्ण फसलें हुयी बरबाद

    बाढ़ से प्रभावित दर्जनों गांवो किसानों ने फसलों की क्षतिपूर्ति अविलम्ब देने की मांग की

    पूर्व एमएलसी के प्रतिनिधि ने जिलाधिकारी, उपजिलाधिकारी सकलडीहा, और तहसीलदार से मिलकर किसानों की समस्याओं का जल्दी से निदान करने की मांग की

    तारकेश्वर सिंह
    चंदौली।पिछले अगस्त माह में गंगा में आई भयंकर बाढ़ ने तटवर्ती दर्जनों गांवों के किसानों का सबकुछ बरबाद कर के रख दिया है। पड़ाव क्षेत्र के कुंडाकला से लेकर सहजौर,कुरहना,भूपौली,नादी,टाण्डाकला,निधौरा,सैफपुर(सहेपुर)बूढ़ेपुर,दिया,पसहटा,अमादपुर,हिंगुतरगढ़, विनमोकरम व नगवां सहित दर्जनों गांवो के किसानों की संपूर्ण फसलें ज्वार,बाजरा,धान,अरहर,सब्जियां और पशुओं का चारा सहित सभी फसलें पूरी तरह बरबाद हो गयी है।जिसके चलते अन्नदाता किसान के सामने गंभीर आर्थिक संकट आ गया है।यही नहीं बाढ़ से प्रभावित इन क्षेत्रों में जलजमाव के कारण संक्रामक रोगों के भी फैलने का खतरा बढ़ गया है। लेकिन इतना सबकुछ होने के बावजूद जिला प्रशासन इस क्षेत्र के किसानों की समस्याओं को लेकर चुप्पी साधे हुये है।इस सबंध में सैफपुर के पूर्व ग्रामप्रधान व पूर्व एमएलसी अन्नपूर्णा सिंह के प्रतिनिधि डाक्टर बालेश्वर सिंह ने जिलाधिकारी चंदौली, उपजिलाधिकारी सकलडीहा व तहसीलदार सकलडीहा से मिलकर किसानों की बरबाद हुयी फसलों का मुआवजा देने के लिये ज्ञापन दिया था।अधिकारियों द्वारा आश्वासन भी दिया गया कि जल्दी इस क्षेत्र के पिड़ीत किसानों फसलों की क्षतिपूर्ति दी जायेगी। वहीं क्षेत्रीय किसान डाक्टर बालेश्वर सिंह, अम्बरीष सिंह भोला,आनंद सिंह टुन्ना, वंशनारायण सिंह, रामाश्रय सिंह, रामेश्वर सिंह, हरिकेश सिंह, निशांत सिंह व लालमोहन सिंह सहित दर्जनों किसानों ने जिला प्रशासन से अविलंब फसलों की क्षतिपूर्ति देने की मांग की है ताकि किसान बदहाली की जिंदगी से बाहर आ सके।किसानों का मानना है कि मुख्यमंत्री योगी.आदित्यनाथ की कृपादृष्टि इस क्षेत्र के किसानों पर अवश्य होगी।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments