More
    Homeजनपदनमामि गंगे ने 'आजादी का अमृत महोत्सव' के तहत अस्सी से राजघाट...

    नमामि गंगे ने ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत अस्सी से राजघाट तक निकाली तिरंगा यात्रा

    भागीरथी के तट पर गूंजी स्वतंत्रता सेनानियों की भगीरथ गाथा

    गंदगी मुक्त गंगा का आवाह्न

    अभिषेक त्रिपाठी/वाराणसी

    वाराणसी। आजादी का अमृत महोत्सव के तहत रविवार को नमामि गंगे ने अस्सी से राजघाट तक तिरंगा यात्रा निकाल कर स्वतंत्रता सेनानियों को याद किया । इस दौरान राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लेकर नमामि गंगे के सदस्यों ने भारत माता की जय, वंदे मातरम् , ऐ वतन मेरे वतन जैसे गगनभेदी उद्घोष किए । विदित हो कि देश के स्‍वतंत्र होने की 75वीं वर्षगांठ को ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तौर पर मनाया जा रहा है। ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ का मकसद ‘नए भारत’ की यात्रा में बलिदान के भाव और देशभक्ति के जज्बे को याद करने में लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करना है। इसी क्रम में भारतीय सनातनी संस्कृति की संवाहिका और स्वतंत्रता संग्राम की साक्षी मां गंगा के तट पर नमामि गंगे ने देश के स्वाधीनता संग्राम में अपने आपको आहूत करने वाले, वह सभी वीर जवान जिन्होंने आज़ादी के बाद भी राष्ट्ररक्षा की परंपरा को जीवित रखा, देश की रक्षा के लिए सर्वोच्च बलिदान दिए, शहीद हो गए। जिन पुण्य आत्माओं ने आज़ाद भारत के पुनर्निर्माण में प्रगति की एक – एक ईंट रखी, 75 वर्ष में देश को यहां तक लाए, उन सभी सेनानियों को नागरिकों के साथ नमन किया । रविवार को गंगा घाटों पर उमड़ी भीड़ ने भारत माता की जयकार के नारे लगाए। गंदगी मुक्त गंगा का आवाह्न किया गया। नाव द्वारा अस्सी से राजघाट तक निकाली गई तिरंगा यात्रा के दौरान नमामि गंगे काशी क्षेत्र के संयोजक राजेश शुक्ला ने कहा कि हमारे वेदों का वाक्य है- मृत्योः मुक्षीय मामृतात्। अर्थात, हम दुःख, कष्ट, क्लेश और विनाश से निकलकर अमृत की तरफ बढ़ें, अमरता की ओर बढ़ें। यही संकल्प आज़ादी के इस अमृत महोत्सव का भी है। आज़ादी का अमृत महोत्सव यानी- आज़ादी की ऊर्जा का अमृत, स्वाधीनता सेनानियों से प्रेरणाओं का अमृत, नए विचारों का अमृत, नए संकल्पों का अमृत, आत्मनिर्भरता का अमृत है । कहा कि ये महोत्सव राष्ट्र के जागरण का महोत्सव है। ये महोत्सव, सुराज्य के सपने को पूरा करने का महोत्सव है। ये महोत्सव, वैश्विक शांति का, विकास का महोत्सव है। तिरंगा यात्रा के दौरान नमामि गंगे काशी क्षेत्र के संयोजक राजेश शुक्ला, गंगोत्री सेवा समिति के अध्यक्ष किशोर रमण दुबे बाबू महाराज, महानगर सहसंयोजक शिवम अग्रहरी , रामप्रकाश जायसवाल, सीमा चौधरी, प्रीति जायसवाल, रश्मि साहू ,घनश्याम गुप्ता, सारिका गुप्ता, विकास तिवारी, प्रीति जायसवाल द्वितीय, पुष्पलता वर्मा, एसके वर्मा, सोनू, सुष्मिता सेठ , सारिका सिन्हा, रुपा जायसवाल, कंचन मिश्रा, मनीष कपूरिया , पारुल गुप्ता, रेखा चौरसिया, चंदन सिंह, शुभम सिंह, हर्षा नथानी, ज्योति शर्मा, राजेश्वरी आदि उपस्थित रहे ।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments