More
    Homeजनपददेश की आजादी का निर्णायक मोड़ था भारत छोड़ो आन्दोलन -डॉ. रामविलास

    देश की आजादी का निर्णायक मोड़ था भारत छोड़ो आन्दोलन -डॉ. रामविलास


    घोसी-मऊ। कोविड 19 नियमों का पालन करते हुए शासन एवं विभागीय निर्देशों के क्रम में ब्लॉक घोसी अंतर्गत पूर्व माध्यमिक विद्यालय धरौली द्वारा प्रभारी प्रधानाध्यापक डॉ. रामविलास भारती के नेतृत्व में स्थानीय गणमान्य व्यक्तियों, अभिभावकों एवं बच्चों ने आजादी के 75 वीं एवं भारत छोड़ो आंदोलन की 79वीं वर्षगांठ पर भारत की आजादी के लिए योगदान देने वालो शहिदों एवं महापुरुषों पर पुष्प अर्पण कर दीप प्रज्वलित करते हुए ग्राम सभा में प्रभात फेरी किया गया। कोविड 19 प्रोटोकॉल के दायरे में ऐसा लग रहा था मानो यह विद्यालय आजादी के रंगों में रंग सा गया है। इस अवसर पर प्रभारी प्रधानाध्यापक डॉ. रामविलास भारती ने कहा कि ‘9 अगस्त का दिन हम भारतवासियों के जीवन की महान घटना है और यह हमेशा बनी रहेगी। वास्तव में 9 अगस्त देश की जनता की उस इच्छा की अभिव्यक्ति थी जिसमें उसने यह ठान लिया था कि हमें आजादी चाहिए और हम आजादी ले कर रहेंगे।हमारे देश के लंबे इतिहास में पहली बार करोड़ों लोगों ने आजादी की अपनी इच्छा जाहिर की थी। डॉ. भारती ने कहा कि’अगस्त क्रांति यानी 9 अगस्त महात्मा गांधी जी के नेतृत्व में भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में भारत छोड़ो आंदोलन देशव्यापी था जिसमें बड़े पैमाने पर भारत की जनता ने हिस्सेदारी की और अभूतपूर्व साहस और सहनशीलता का परिचय दिया। अगस्त क्रांति भारत से ब्रिटिश हुकूमत को उखाड़ फेंकने की अंतिम और निणार्यक लड़ाई थी, महात्मा गांधी जी ने ‘करो या मरो’ के नारे के साथ अंग्रेजों को देश छोड़ने पर मजबूर करने के लिए देश की जनता का आह्वान किया था।भारत छोड़ो आंदोलन देश की आजादी के लिए एक निर्णायक मोड़ था। विभिन्न स्रोतों से आजादी की जो इच्छा और उसे हासिल करने की जो ताकत भारत में बनी थी, उसका अंतिम प्रदर्शन भारत छोड़ो आंदोलन में हुआ।वास्तव में भारत छोड़ो आंदोलन भारत की जनता में लंबे समय से पल रही आजादी की इच्छा का विस्फोट था जिसने भारत को आजाद भारत बनाया। आज हमें इस आजादी को सँजोकर रखना व अखण्ड भारत के निर्माण में योगदान देना ही भारत छोड़ो आन्दोलन के शहीदों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
    इस अवसर पर विद्यालय प्रबन्ध समिति की अध्यक्ष बादामी देवी, फूलवन्ती शाही, कमलेश राय, मेहंदी रज़ा, बृजेश सागर, सुनीता, कंचन मिश्रा, गीता मिश्रा, अंजू देवी, मंजू मिश्रा, शीला, विध्यवासिनी, देवन्ती देवी, संजना, करीना, सोनम आदि उपस्थित रही।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments