दीपोत्सव कार्यक्रम के तहत हुआ कवि सम्मेलन का आयोजन

0
29
  • नगरपालिका परिषद चुनार द्वारा आयोजित हुआ कार्यक्रम

चुनार। बाजार स्थित पाटरी मैदान पर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रस्तावित दीपोत्सव कार्यक्रम के तहत चुनार नगरपालिका परिषद चुनार द्वारा शुक्रवार की शाम आंचलिक कवि संमेलन का आयोजन सम्पन्न हुआ ।सम्मेलन में अंचल से आए कवियों ने अपनी प्रतिनिधि रचनाओं से श्रोताओं का मन मोह लिया।
चकिया की धरती से आए मधुर गीतकार मनोज द्विवेदी मधुर ने
त्याग ऐश्वर्य महल के वैभव, हर कोई राम हो नहीं सकता।
सुरेन्द्र मिश्र अंकुर ने सुनाया- रक्त से सींचा हुआ जिनके सुवासित है चमन। उन शहीदों को मेरा शत शत नमन शत शत नमन। कमलेश्वर कमल ने जब से आयल बा कोरोना पड़ गयल रोना ए बचवा सुना कर वाहवाही लूटी । अनवर अली अनवर ने ऐसी धरा कहीं न कहीं आसमान है,जन्मा जो इस धरा पर बड़ा भाग्यवान है सुनाकर तालियां बटोरी। विभा सिंह ने मैं तो परदेशिया के प्यार संग जाऊंगी सुनाकर खूब तालियां बटोरीं। मिथिलेश गहमरी ने अभी सरकार अपनी है जुबां खामोश रहने दो सुनाया। नरसिंह साहसी ने ज्ञान गंगा में डुबकी लगावल करा,आग सगरी लगल हौ बुझावल करा। अनवर अली अनवर ने कितनी प्यारी ज़ुबान है हिन्दी, अपने भारत की शान है हिन्दी।
अन्य कवियों में सोनभद्र से पधारे अजय चतुर्वेदी उर्फ कक्का ,धर्मदेव चंचल एवं स्थानिय कवियों की जुगलबंदी ने श्रोताओं को देर रात तक अपनी रचनाओं से सराबोर किया।
सम्मेलन की अध्यक्षता श्री श्यामधर चतुर्वेदी ने और संचालन गहमर की धरती से आए मिथिलेश गहमरी ने किया। अंत में कवियों को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर उनका सम्मान किया गया।मुख्य अतिथि मेजर कृपा शंकर सिंह एवं प्रधानाचार्य श्रीश द्विवेदी रंजन ने कवियों को सम्मानित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here