More
    Homeजनपदतटवर्ती गांवों में मिट्टी कटान का खतरा बढ़ा, ग्रामीणों में दहशत

    तटवर्ती गांवों में मिट्टी कटान का खतरा बढ़ा, ग्रामीणों में दहशत

    तारकेश्वर सिंह
    चंदौली।पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार बादल फटने व हो रही भारी बरसात के नदियों के जलस्तर में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। गंगा नदी भी इससे अछूती नहीं है। चंदौली में भी गंगा का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। शुक्रवार की शाम को गंगा का जलस्तर 59.14 मीटर रिकार्ड किया गया। गंगा के जलस्तर में हो रही लगातार बढ़ोत्तरी से तटवर्ती इलाके के ग्रामीणों में दहशत का व्याप्त है। गौरतलब है कि गंगा के जलस्तर में प्रतिवर्ष होने वाली बढोत्तरी से नियामतबाद, चहनियां व धानापुर ब्लाक के दर्जनों गांवों में मिट्टी के कटान का खतरा बढ़ जाता है। चहनियां व धानापुर के दर्जनो गांवों में सैकड़ों बीघा जमीन गंगा कटान की भेट चढ़ गयी है। इसीलिए जब भी गंगा को जलस्तर में बढ़ोत्तरी होती है चहनियां, नियामतबाद व धानापुर ब्लाक के दर्जनों गांवों के किसानों के दिलों की धड़कने बढ़ जाती है।

    शुक्रवार को गंगा का जलस्तर 59.14 मीटर रिकार्ड किया गया था। जो अभी खतरे के निशान से 11 मीटर नीचे है। लेकिन जिस तेजी से जलस्तर में बढ़ोत्तरी हो रही है।उसको देखते हुये यह कहा जा सकता है कि खतरा का निशान छूने में देर नहीं है। लगती।।गंगा के किनारे बसे गांवों बहादुरपुर, कुंडा कला,सहजौर,कुरहना,मवई,भूपौली, डेरवां, महड़ौरा, कांवर, पकड़ी, महुअरियां, विशुपुर, महुआरी खास, सराय, बलुआ, डेरवाकला, महुअर कला, हरधन जुड़ा, गंगापुर, पुराबिजयी , पुरागणेन, चकरा, सोनबरसा, टांडाकला, महमदपुर, सरौली, तिरगांवा, हसनपुर, बड़गांवा, नादी-निधौरा, सहेपुर समेत अन्य गांवों में गंगा के बाढ़ का खतरा बढ़ गया है।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments