More
    HomeUncategorizedज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने वर्षो से 400 बीघा की खेती योग्य जमीन को...

    ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने वर्षो से 400 बीघा की खेती योग्य जमीन को जलभराव से मुक्ति दिलाई

    लगभग 80 किसानों की फसलें 23 वर्षो से हो रही थी बरबाद

    जल निकासी को लेकर कई बार बरांव और जिगिना के किसानों के बीच चले थे लाठी ड़डे, हो चुकी है गोलीबारी

    तारकेश्वर सिंह
    चकिया। इलिया थाना क्षेत्र के वरांव मदरा गांव में मंगलवार की सुबह ज्वाइंट मजिस्ट्रेट/एसडीएम प्रेम प्रकाश मीणा ने गांव में पिछले कई वर्षों से खेतों में जलजमाव के कारण पानी लग जाने के कारण फसल नहीं हो पाती थी। इसी समस्या के निदान के लिये उन्होंने मौके पर खड़े होकर जेसीबी से खोदवा कर 2 फुट चौड़ा व 35 मीटर लम्बा कुलावा लगवाया ताकि बरसात के दिनों में इकट्ठा पानी निकल सके। बताते चलें कि जलजमाव के गांव के लगभग 80 किसानों के 400 बीघा भूमि में 23 वर्षो से जलभराव के कारण खेती नहीं हो पा रही थी। खेती नही होने के कारण इन गरीब किसान खाने के एक एक दाने के मोहताज हो गये थे। लेकिन ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के इस नेक कार्य से किसानों को निजात मिल गयी। मंगलवार को ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने वरांव मदरा गांव में पहुंचकर उक्त कार्य को करवाया। गांव के ग्रामीणों ने कुछ दिन पहले एसडीएम से मिलकर उन्हें 23 वर्षो से जलभराव की समस्या से अवगत कराया था। जिस मामले को संज्ञान में लेते हुये एसडीएम मंगलवार को राजस्व विभाग के अधिकारियों व संबंधित थाने की पुलिस लेकर मौके पर पहुंचे। बताते चलें कि सन् 2007 में उक्त जलनिकासी के प्रयास मे वरांव और जिगिना के ग्रामीणों में आमने सामने से लाठी, डंडे तक चले।यही नहीं दोनों पक्षों में एक बा गोलीबारी भी हो चुकी है। मंगलवार को एसडीएम ने मौके पर खड़े होकर सिंचाई विभाग व ग्रामीणों के सहयोग से जलनिकासी का संपूर्ण समाधान सुनिश्चित कराया। उन्होंने जेसीबी से खोदवा कर 2 फुट चौड़ा 35 मीटर लंबा कुलावा भी लगवाया। जिससे बारिश के दिनों में इकट्ठा हुआ पानी तत्काल निकल सके। और किसान खेती बाड़ी सुचारू रूप से बिना किसी जलभराव की समस्या के कर सकें। इस दौरान अधिशासी अभियंता सिंचाई विभाग, तहसीलदार चकिया एवं अन्य कर्मचारी मौजूद भी रहे।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments