More
    Homeउत्तर प्रदेशजनसुनवाई पोर्टल और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर भेजी गई शिकायतों के निष्तारण में...

    जनसुनवाई पोर्टल और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर भेजी गई शिकायतों के निष्तारण में लापरवाही बरतने पर मुख्यमंत्री नाराज

    चंदौली सहित कई अन्य जिलाधिकारियों के कार्यप्रणालियों पर लगाया सवालिया निशान

    तारकेश्वर सिंह
    चंदौली।उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनसुनवाई पोर्टल और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर भेजी जा रही शिकायतों के निष्तारण में लापरवाही बरतने के लिये चंदौली सहित कई जिलाधिकारियों के कार्यप्रणालियों पर सवालिया निशान लगा दिये हैं। मुख्यमंत्री जुलाई और अगस्त माह में आई शिकायतों की समीक्षा करते समय असंतोष जाहिर करते हुए इन अधिकारियों को चेतावनी दी। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि ऐसे अधिकारी अपनी कार्यशैली में बदलाव लाएं और लंबित प्रकरणों को एक सप्ताह के अंदर निस्तारित करें।बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री इस दौरान चंदौली, गोरखपुर, बलिया, गाजियाबाद जिले की प्रगति पर काफी हद तक नाराज दिखे और अफसरों की कार्यप्रणाली पर काफी असंतोष जाहिर करते हुए अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि फरियादियों की संतुष्टि ही अधिकारियों की कार्यकुशलता और उनके प्रदर्शन का प्रमाण है।बताते चलें कि मुख्यमंत्री गुरुवार की शाम को डेंगू व अन्य वायरल बीमारियों, जन सुनवाई पोर्टल, मुख्यमंत्री हेल्पलाइन, तहसीलों और थानों में जन शिकायतों के निस्तारण तथा पुलिस के पास लंबित विवेचनाओं की अद्यतन स्थिति की समीक्षा कर रहे थे।मुख्यमंत्री ने कहा कि लखनऊ में उनके आवास पर प्रतिदिन जनता दर्शन का आयोजन होता है। हर दिन फरियादी प्रदेश के विभिन्न जनपदों से आते हैं। ज्यादातर मामले राजस्व व पुलिस विभाग से जुड़े होते हैं। प्रत्येक दशा में हर डीएम व एसपी रोज कम से कम एक घंटे जनसुनवाई के लिए उपलब्ध रहें। आने वाली शिकायतों की पंजिका तैयार करें और हर आवेदन का निस्तारण एक तय समय-सीमा के भीतर करायें।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments