More
    Homeजनपदचंदौली के काला चावल को विदेशों में मिली पहचान

    चंदौली के काला चावल को विदेशों में मिली पहचान

    जनपद में काला चावल के उत्पादन को बढ़ाने के लिये नाबार्ड आगे आया

    श्रमिक भारती व नाबार्ड के सहयोग से जनपद में काला चावल किसान प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड का कराया गया पंजीकरण

    किसान प्रोड्यूसर कंपनी काला चावल उत्पादक किसानों की आय को दोगुना करने पर देगी जोर

    तारकेश्वर सिंह
    चंदौली। चंदौली में काला चावल की खेती को लेकर किसानों में खासा उत्साह देखा जा रहा है। इसी को लेकर नरवन क्षेत्र के अमड़ा गांव में श्रमिक भारती एवं नाबार्ड के सहयोग से चन्दौली काला चावल किसान प्रोड्यूसर कम्पनी लिमिटेड का पंजीकरण कराया गया है। कंपनी के निदेशक मंडल की पहली बैठक में कंपनी में किसानों की सदस्यता को बढ़ाने पर जोर देते हुये अन्य खेती से जुड़े कार्यों पर भी चर्चा की गयी। जनपद में काला चावल की खेती से होने वाले फायदे का प्रचार प्रसार करने की भी चर्चा की गयी। नाबार्ड के डीडीएम तनुज सेन ने कहा कि यह जनपद धान के कटोरे के नाम से विख्यात है। अब इसकी पहचान देश सहित विदेशों में भी काले चावल के रुप में हो रही है। उन्होंने कहा कि जनपद के किसानों ने काला चावल की खेती में नया कीर्तिमान स्थापित किया है।इसी लिये नाबार्ड किसानों के हित के संरक्षण के लिए सहयोग कर रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों की आय को दोगुना करने के लिए काला चावल की खेती काफी फायदेमंद है। कंपनी के निदेशक शशि कांत राय ने बताया कि काला चावल प्रोड्यूसर कंपनी जनपद के किसानों की फसल का उचित मूल्य दिलवाने के लिए कार्य करने जा रही है। उन्होंने कहा कि कम्पनी में किसानों की ज्यादा से ज्यादा सदस्यता दिलवा कर जनपद को अलग पहचान दिलवाने का काम किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि काला चावल के सुगर फ्री होने के चलते इसकी तेजी से मांग देश व विदेश में बढ़ रही है। बैठक में मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्रमिक भारती राकेश पांडेय, कम्पनी के निदेशक शशिकांत राय, रतन सिंह, अच्युतानंद , विंध्यवासिनी, प्रेमशंकर आदि किसान मौजूद रहे।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments