कुशीनगर: राम की भक्ति व प्राप्ति के लिये शिव की आराधना जरूरी -बालक दास

0
69

कुशीनगर से अनिल कुमार  राय की रिपोर्ट
आजाद पत्र न्यूज
कुशीनगर । भारद्वाज जी ने याज्ञवल्क्य जी से राम जी के बारे में पूछा लेकिन याज्ञवल्क्य जी ने राम जी के बारे में न बताकर शिव चरित्र का वर्णन किया क्योंकि बिना शिव जी के कृपा के राम जी को नही पाया जा सकता। अतः राम जी की भक्ति प्राप्ति हेतु शिव जी की आराधना जरूरी है। उक्त बातें भारद्वाज जी और याज्ञवल्क्य जी के प्रसंग की चर्चा करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष व्यास संघ एवं पतालपुरी पीठाधीश्वर बालक दास महाराज ने नगर पालिका परिषद कुशीनगर, कसया स्थित श्रीरामजानकी मंदिर (मठ) में श्रीराम कथा के दूसरे दिन सोमवार को व्यास पीठ से कही। इसी क्रम में सती मोह प्रसंग का वर्णन करते हुए बालक दास महाराज ने कहा कि दाम्पत्य जीवन में एक दूसरे पर विश्वास अति आवश्यक है। यदि सती जी ने शिव जी की बात मानी होती तो उन्हें शिव जी से दूर न होना पड़ता। पत्नी के लिए उसका पति सर्वोपरि होता है।कथा का प्रारम्भ यजमान अरुण पाण्डेय व अंकिता पांडेय की जोड़ी द्वारा आचार्य रामजी पाण्डेय के निर्देशन में व्यास पीठ की पूजा से हुआ।यज्ञ मंडप की परिक्रमा में प्रातः काल से श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा।

इस दौरान महंत त्रिभुवन शरण दास, पुजारी देव नारायण शरण, बाल मुकुंद शरण दास, विष्णु शरण दास, डॉ0 हरिओम मिश्र, इन्द्र मिश्र, सुरेश गुप्त, मणि प्रकाश यादव, राहुल यादव, राकेश कुशवाहा, निशांत सिंह, सचिदानंद, सभासद महेश जायसवाल, राधे यादव, अमरचंद हिंदुस्तानी, सुरेश मद्देशिया, अनिल सिंह, अभिमन्यु यादव, शिवानी, शशि त्रिपाठी, अनमोल तिवारी, सुभाष दुबे, विक्की जायसवाल आदि लोग उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here