अस्ताचलगामी सूर्य को व्रती महिलाओं ने दिया अर्घ्य, सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद

0
47

गाजीपुर/बलिया। सूर्योपासना का महापर्व बुधवार को अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देकर डाला छठ का पहला सोपान सम्पन्न हुआ। गाजे बाजे के साथ क्षेत्र के नागा घाट, सिकंदरपुर , कनुवान (गाजीपुर) सोनारी, अवथहीं, श्रीपुर, मुंडेरा, सुखडेहरा, लोचाईन सहित करईल इलाकके सभी गंगा घाटों, सरोवरों, पोखरों पर सैकड़ो व्रती महिलाए अपने बच्चों व पुरुषों के साथ घाट पहुंचकर अस्ताचलगामी सूर्य को पहला अर्घ्य दिया।

इसके बाद अगले दिन 11 नवम्बर की सुबह उदयगामी सूर्य को अंतिम अर्घ्य देने के साथ डाला छठ व्रत का समापन करेंगी। बताते चलें कि डाला छठ पर पूजा के लिये विशेष स्थान पर बेदी और उसमें पूजा सामग्री रखा गया था। व्रती महिलाए अपने अपने घरों छठ गीत गाते हुए गंगा नदी घाट पहुँचकर स्नान किया तथा नए वस्त्रों को पहना।

इस दौरान कोटवा में थानाध्यक्ष (नरहीं) प्रवीण कुमार सिंह एवं चौकी प्रभारी (कोरंटाडिह) धर्मेंद्र कुमार सिंह तथा थानाध्यक्ष (भांवरकोल) वागिश बिक़म सिंह सभी घाटों पर चक़मण करते रहे। क्षेत्र के सभी घाटों पर पुलिस कर्मियों सहित गोताखोरों को लगाया गया। प्रशासन ने आस पास के सभी छठ घाटों पर पहुंचकर निरीक्षण किया।

डाला छठ पर्व यानि सूर्यापासना का महापर्व नहाय खाय संग सैकड़ो व्रती महिलाएं बुधवार को गंगा घाट पर बनाये गए विशेष स्थान पर गाना बाजा के संग पहुंचकर स्नान किया। इस दौरान घाटों पर काफी रही। इस मौके पर महिला पुलिस तैनात रहीं। पर्व को शांति पूर्ण सम्पन्न कराने के लिये गांवों के युवाओं समितियों की टीम भी बिभिन्न घाटों पर व्रतियों के सहयोग में जुटे रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here