More
    Homeराजनीतिअजय कुमार लल्लूः चले थे नमाज छुड़ाने, रोज़े गले पड़ गए

    अजय कुमार लल्लूः चले थे नमाज छुड़ाने, रोज़े गले पड़ गए

    त्वरित विश्लेषण- कुमार अम्बुजेश

    कुशीनगर। पूरे प्रदेश में अपने खास राजनीतिक तरीके से लोकप्रिय होते जा रहे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय लल्लू अपने ही विधानसभा क्षेत्र में भाजपाइयों के लपेटे में आ गए। मामला उनके विधानसभा क्षेत्र तमकुहीराज का है जहां के तरयासुजान में बुधवार को अजय लल्लू को भारी विरोध का सामना करना पड़ा, जहां उनके खिलाफ जमकर नारेबाज़ी भी हुई। ये सबकुछ हुआ भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा फैलाई गई गलतफहमी की वजह से। असल में हुआ कुछ यूं था कि बेहद क्षतिग्रस्त तमकुहीराज- तरयासुजान मार्ग के निर्माण को लेकर स्थानीय व्यापारी और लोग लगातार आंदोलनरत हैं। अजय लल्लू जो कि अपने जमीनी संघर्ष के चलते खास पहचान बना चुके हैं, उन्होंने इस अवसर का लाभ उठाते हुए ना केवल धरना देने वाले लोगों का समर्थन किया बल्कि उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर बढ़ने का आश्वासन भी दिया। इसके बाद बुधवार को अजय लल्लू अचानक तरयासुजान पेट्रोल पंप के पास क्षतिग्रस्त सड़क के पास जेसीबी मशीन लेकर पहुंच गए। ये जेसीबी मशीन असल में लोकनिर्माण विभाग की ओर से भेजी गई थी, ताकि अस्थाई तौर पर सड़क पर जमा पानी निकालकर मिट्टी डालकर चलने योग्य बना दी जाए। लेकिन इसकी भनक स्थानीय भाजपा नेताओं को लग गई। जिसके बाद उनके उकसावे पर लोग जमा हो गए और अजय लल्लू के खिलाफ नारेबाजी शुरु कर दी। मौके की नजाकत को भांपते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और स्थानीय विधायक अजय कुमार लल्लू मौके से चले गए।

    गुरुवार को फिर जेसीबी मशीन पहुंची तो भाजपा के नेताओं को लगा कि एक बार फिर अजय लल्लू ही जेसीबी मशीन लेकर आए हैं। जिसके बाद वहां खासी भीड़ जुट गई। हालांकि बाद में जेसीबी के कर्मचारियों ने बताया कि वो लोकनिर्माण विभाग से आए हैं। जिसकी पुष्टि के लिए स्थानीय भाजपा नेताओं ने विभाग में फोन किया तो बात सही निकली। जेसीबी का मकसद रोड खोदना नहीं बल्कि रोड को अस्थाई तौर पर चलाने योग्य बनाना था।

    आपको बता दें कि इस सड़क के लिए प्रोजेक्ट को मंजूरी मिल चुकी हैं हालांकि अभी काम शुरु नहीं हो पाया है। लेकिन सबसे दिलचस्प रहा अजय कुमार लल्लू जैसे मंझे हुए राजनेता का इस चक्कर में उलझ जाना जहां उनकी छापामार सियासी रणनीति को भाजपाइयों ने अपना लिया और दिनभर ये माहौल बनाने में कामयाब हुए कि अजय कुमार लल्लू सड़क को तोड़ने आए थे। ये अपने आप में बेहद चौंकाने वाला मामला है क्योंकि अजय कुमार लल्लू की पहचान ऐसे नेता के तौर पर है जो कभी किसी के प्रोपगैंडा में फंसते नहीं है। चुनावी साल में ये घटना निश्चित तौर पर स्थानीय विधायक के लिए एक चुनौतीपूर्ण घटना है। जिससे उन्हें आगे सावधान रहने की जरुरत है।                                                                                                                                                                                                        

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments